Nakshatra (नक्षत्र)

Posts by : Lee Macqueen
Dec 02 2017

On the line similar to Zodiac signs, there is another method of classification of stars in universe called the Nakshatras. The nakshatras are a kind of lunar counterparts to zodiac and each sign has a length of 13 degrees 20 minutes as against 30 degrees in case of Zodiacs. This is as per the daily distance travelled by the moon. Vedic astrology uses the system of Nakshatras in addition to the Zodiac system. As evident, this division is more details and is supposed to provide more refined understanding. Each zodiac will have three Nakshatras, two fully in that Zodiac and one partly in that zodiac and partly in the next. Thus the characteristics associated with each Nakshatra are primarily derived from that of the Zodiac/s. The 27 Nakshatras in order are:

    • 1. अश्विनी नक्षत्र (Ashvini)

स्वामी : केतु; अधिदेव : अश्विनी कुमार;

राशि विस्तार : मेष में 0 अंश से 13 अंश 20 मिनट

अक्षराक्षर : चू, चे, ची, ला

प्रकृति : चर प्रकृति, विचारों में आक्रामकता, तकनीकि ज्ञान में सुदृढ़, अच्छे मित्र, थोड़े अड़ियल

    • 2. भरणी नक्षत्र (Bharani)

स्वामी : शुक्र ; अधिदेव : यमराज;

राशि विस्तार : मेष में 13 अंश 20 मिनट से 26 अंश 40 मिनट

अक्षराक्षर : ली, लू , ले, लो

प्रकृति : सुन्दर, दिखने में कठोर स्वाभाव, संपन्न, चंचल, भोले

    • 3. कृतिका नक्षत्र (Krittika)

स्वामी : सूर्य ; अधिदेव : अग्नि ;

राशि विस्तार : मेष में 26 अंश 40 मिनट से 30 अंश तक एवं वृष राशि में 10 अंश तक

अक्षराक्षर : आ, ई, उ, ए

प्रकृति : चर प्रकृति, अच्छे निर्णायक, नेतृत्व का गुण, स्थिर स्वभाव (वृष में)

    • 4. रोहिणी नक्षत्र (Rohini)

स्वामी : चन्द्र ; अधिदेव : ब्रह्मा ;

राशि विस्तार : वृष में 10 अंश से 23 अंश 20 मिनट तक

अक्षराक्षर : ओ, वा, वी, वू.

प्रकृति : स्थिर स्वाभाव, विचारों में सात्विकता, मेहनती, सुन्दर नाक-नक्श वाला, नेक दिल वाला,

    • 5. मृगशिरा नक्षत्र (Mrigashira)

स्वामी : मंगल ; अधिदेव : चन्द्र ;

राशि विस्तार : वृष में 23 अंश 20 मिनट से 30 अंश तक एवं मिथुन राशि में 6 अंश 40 मिनट तक

अक्षराक्षर : वे, वो, का, की

प्रकृति : थोड़ा स्थिर स्वाभाव, आक्रामक, मेहनती, मन से थोड़ा कमजोर, चिन्तनशील और क्रोधी (मिथुन में)

    • 6. आर्द्रा नक्षत्र (Ardra)

स्वामी : राहु ; अधिदेव : शिव ;

राशि विस्तार : मिथुन राशि में 6 अंश 40 मिनट से 20 अंश तक

अक्षराक्षर : कू, घ, ड़, छ

प्रकृति : चिन्तनशील, दूसरों को समझाने वाला, अन्य के मामलों में दखलंदाजी, जल्दबाज

    • 7. पुनर्वसु नक्षत्र (Punarvasu)

स्वामी : गुरु ; अधिदेव : अदिति ;

राशि विस्तार : मिथुन राशि में 20 अंश से 30 अंश तक एवं कर्क राशि में 3 अंश 20 मिनट तक

अक्षराक्षर : के ,को , हा , ही

प्रकृति : चिन्तनशील, विवेकशील, बुद्धिमान, समय के अनुसार ढलने वाले तथा दूरदर्शी, मननशील दयालु, कोमल ह्रदय, सृजनशील (कर्क में)

    • 8. पुष्य नक्षत्र (Pushya)

स्वामी : शनि ; अधिदेव : गुरु ;

राशि विस्तार : कर्क राशि में 3 अंश 20 मिनट से 16 अंश 40 मिनट तक

अक्षराक्षर : हू, हे, हो, डा.

प्रकृति : स्थिर स्वभाव, विवेकशील, दयालु, मेहनती, दूरदर्शी

    • 9. अश्लेषा नक्षत्र (Ashlesha)

स्वामी : बुध ; अधिदेव : सर्प ;

राशि विस्तार : कर्क राशि में 16 अंश 40 से 30 अंश तक

अक्षराक्षर : डी, डू, डे, डो

प्रकृति : तीक्ष्ण नज़र, चतुर व मृदु भाषी, कृतघ्न, वाक् पटु

    • 10. मघा नक्षत्र (Magha)

स्वामी : केतु ; अधिदेव : पितर;

राशि विस्तार : सिंह राशि में 0 अंश से 13 अंश 20 मिनट

अक्षराक्षर : मा, मी , मू, में

प्रकृति : अप्रत्याशित, परम्परावादी, नेतृत्व के गुणों से भरपूर, चर प्रकृति

    • 11. पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र (Purvaphalguni)

स्वामी : शुक्र ; अधिदेव : भग;

राशि विस्तार : सिंह राशि में 13 अंश 20 मिनट से 26 अंश 40 मिनट

अक्षराक्षर : मो , टा , टी, टू

प्रकृति : संपन्न, नेतृत्व गुण, सौम्य मगर अन्दर से आक्रामक, चर प्रकृति

    • 12. उतराफल्गुनी नक्षत्र (Uttaraphalguni)

स्वामी : सूर्य ; अधिदेव : अर्यमा ;

राशि विस्तार : सिंह राशि में 26 अंश 40 मिनट से 30 अंश तक एवं कन्या राशि में 10 अंश तक

अक्षराक्षर : टे, टो, पा, पी

प्रकृति : नेतृत्व, तेज तर्रार, समाज में अपनी पहचान बनाने वाले, चर प्रकृति स्थिर प्रकृति (कन्या में)

    • 13. हस्त नक्षत्र (Hasta)

स्वामी : चन्द्र ; अधिदेव : सूर्य ;

राशि विस्तार : कन्या राशि में 10 अंश से 23 अंश 20 मिनट तक

अक्षराक्षर : पु, ष, ण, ठ

प्रकृति : थोड़े स्थिर, थोड़े चंचल, नेतृत्व के गुण वाले, सौम्य व अच्छे निर्णायक</p

0 comments

There is no comment.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *